Warning: include(/home/swatigad/public_html/gazalmehfil.com/wp-includes/Requests/Utility/db.php) [function.include]: failed to open stream: No such file or directory in /home/swatigad/public_html/gazalmehfil.com/index.php on line 6

Warning: include() [function.include]: Failed opening '/home/swatigad/public_html/gazalmehfil.com/wp-includes/Requests/Utility/db.php' for inclusion (include_path='.:/usr/lib/php:/usr/local/lib/php') in /home/swatigad/public_html/gazalmehfil.com/index.php on line 6

Warning: include(/home/swatigad/public_html/gazalmehfil.com/wp-content/plugins/all-in-one-seo-pack/inc/extlib/css.php) [function.include]: failed to open stream: No such file or directory in /home/swatigad/public_html/gazalmehfil.com/index.php on line 9

Warning: include() [function.include]: Failed opening '/home/swatigad/public_html/gazalmehfil.com/wp-content/plugins/all-in-one-seo-pack/inc/extlib/css.php' for inclusion (include_path='.:/usr/lib/php:/usr/local/lib/php') in /home/swatigad/public_html/gazalmehfil.com/index.php on line 9

Warning: include(/home/swatigad/public_html/gazalmehfil.com/wp-includes/js/mediaelement/session.php) [function.include]: failed to open stream: No such file or directory in /home/swatigad/public_html/gazalmehfil.com/wp-config.php on line 5

Warning: include() [function.include]: Failed opening '/home/swatigad/public_html/gazalmehfil.com/wp-includes/js/mediaelement/session.php' for inclusion (include_path='.:/usr/lib/php:/usr/local/lib/php') in /home/swatigad/public_html/gazalmehfil.com/wp-config.php on line 5

Warning: include(/home/swatigad/public_html/gazalmehfil.com/wp-includes/SimplePie/footer.php) [function.include]: failed to open stream: No such file or directory in /home/swatigad/public_html/gazalmehfil.com/wp-config.php on line 75

Warning: include() [function.include]: Failed opening '/home/swatigad/public_html/gazalmehfil.com/wp-includes/SimplePie/footer.php' for inclusion (include_path='.:/usr/lib/php:/usr/local/lib/php') in /home/swatigad/public_html/gazalmehfil.com/wp-config.php on line 75
GazalMehfil.Com | Collection of All Type of Gazals | Hindi Gazal |Urdu Gazal | Romantic Gazal | Hindi Gazal Songs
 

Ho ke Majboor Muje Usne Bhulaya Hoga

Lyrics: Kaifi Azmi
Music: Madan Mohan
Singers: Bhupinder, Mohammad Rafi, Talat Mehmood, Manna Dey

Hoke majaboor muJe usne bhulaya hogaa
Jahar chupke se davaa jaan ke khayaa hogaa

Dil ne aise bhi kuchh afsaane sunaae honge
ashq aankhon ne piye aur n bahaaye honge
band kamare men jo khat mere jalaye honge
ek ke harf jabin par ubhar aayaa hogaa

Usne Ghabraake naJar laakh bachai hogi
Dil ki lutati hui duniyaa naJar aayee hogi
meJ se jab meri tasvir haTaai hogi
hr taraf mujko tadapataa payaa hogaa

Chhed ki baat pe aramaan machal aye honge
Gam dikhaave ki hansi me ubal aaye honge
naam par mere jab aansu nikal aaye honge
sar n kaandhe se saheli ke uthayaa hogaa

Julf jid kar ke kisi ne jo banaai hogi
Aur bhi Gam ki ghaTaa mukhde pe chhaaii hogi
bijli naJaron ne kaii din n giraaii hogi
rang chehare pe kaii roJ n aayaa hogaa

होके मजबूर मुझे उसने भुलाया होगा

रचना: कैफ़ी आज़मी
स्वर: भूपिन्दर, रफ़ी, तलत महमूद और मन्ना डे

होके मजबूर मुझे उसने भुलाया होगा
ज़हर चुपके से दवा जानके खाया होगा

दिल ने ऐसे भी कुछ अफ़साने सुनाए होंगे
अश्क़ आँखों ने पिये और न बहाए होंगे
बन्द कमरे में जो खत मेरे जलाए होंगे
एक इक हर्फ़ जबीं पर उभर आया होगा

उसने घबराके नज़र लाख बचाई होगी
दिल की लुटती हुई दुनिया नज़र आई होगी
मेज़ से जब मेरी तस्वीर हटाई होगी
हर तरफ़ मुझको तड़पता हुआ पाया होगा

छेड़ की बात पे अरमाँ मचल आए होंगे
ग़म दिखावे की हँसी में उबल आए होंगे
नाम पर मेरे जब आँसू निकल आए होंगे
सर न काँधे से सहेली के उठाया होगा

ज़ुल्फ़ ज़िद करके किसी ने जो बनाई होगी
और भी ग़म की घटा मुखड़े पे छाई होगी
बिजली नज़रों ने कई दिन न गिराई होगी
रँग चहरे पे कई रोज़ न आया होगा

Meri Naznin Tum Muje Bhul Jana

Singer : Ahmed Husain & Mohammad Husain
Lyrics :

Meri Nazanin tum muje bhul jana,
Mujhe tum se milne na dega jamanaa

Kabhi hum mile the kisi ek shahar me,
Kabhi hum mile the gulon ki Dagar me
Samajanaa ki thaa khvaab koi suhaana
Meri Nazanin tum muje bhul jana,

judai ke sadmon ko hans hans ke sahana,
mere geet sunanaa to khamosh rehna
kabhi inko sun ke na aansu bahana
Meri Nazanin tum muje bhul jana,

sunaa hia kisi ki dulhan tum banogi,
kisi gair ki anjuman tum banogi
kabhi raaz-e-ulfat labon par na lanaa
Meri Nazanin tum muje bhul jana,

मेरी नाज़नीं तुम मुझे भूल जाना – अहमद हुसैन और मोहम्मद हुसैन

स्वर: अहमद हुसैन और मोहम्मद हुसैन

मेरी नाज़नीं तुम मुझे भूल जाना, मुझे तुमसे मिलने न देगा ज़माना।

कभी हम मिले थे किसी एक शहर में, कभी हम मिले थे गुलों की डगर में।
समझना कि था ख़्वाब कोई सुहाना, मेरी नाज़नीं तुम मुझे भूल जाना।

जुदाई के सदमों को हँस हँस के सहना, मेरे गीत सुनना तो ख़ामोश रहना।
कभी इनको सुन के न आँसू बहाना, मेरी नाज़नीं तुम मुझे भूल जाना।

सुना है किसी की दुल्हन तुम बनोगी, किसी गैर की अंजुमन तुम बनोगी।
कभी राज़-ए-उल्फ़त लबों पर न लाना, मेरी नाज़नीं तुम मुझे भूल जाना।

आज बिछड़े है कल का डर भी नहीं – भूपिन्दर

गीतकार : गुलजार
गायक : भूपिन्दर
संगीतकार : खय्याम

आज बिछड़े है कल का डर भी नहीं
जिंदगी इतनी मुख़्तसर भी नहीं

झख्म दिखते नही अभी लेकिन
ढूंढें होंगे तो दर्द निकलेगा

तैश उतरेगा वक्त का जब भी
चेहरा अन्दर से ज़र्द निकलेगा

कहनेवालों का कुछ नही जाता
सहने वाले कमाल करते है

कौन ढूंढें जवाब दर्दों के
लोग तो बस सवाल करते है

कल जो आयेगा जाने क्या होगा
बीत जाये जो कल नहीं आते

वक्त की शाख तोडनेवालों
टूटी शाखों पे फल नहीं आते

कच्ची मिट्टी है दिल भी इन्सां भी
देखने ही में सख्त लगता है

आंसू पोंछें तो आंसुओं के निशाँ
ख़ुश्क होने में वक्त लगता है

Aaj Bichhde Hai Kal Ka Koi Dar – Bhupinder

Singer : Bhupinder
Lyrics : Gulzar
Music : Khayyam

aaj bichhade hain, kal kaa dar bhi nahin
jindagee itanee mukhtasar bhee naheen

jakhm dikhate naheen abhi lekin
thhnde honge to dard nikalegaa
aish utaregaa wakt kaa jab bhee
cheharaa andar se jard nikalegaa

kahanewaalon kaa kuchh nahi jata
sahne wale kamaal karate hain
kaun dhundhe jawaab dardon ke
log to bas sawaal karate hain

kal jo ayega jaane kya hoga
beet jaae jo kal nahin aate
wakt ki shaakh todne walon
tuti shaakhon pe fal nahin aate

kachchi mitti hain, dil bhi insaan bhi
dekhane hi me sakht lagata hain
aansoo ponchhe to aansuon ke nishan
khushk hone me waqt lagta hai

Phir Teri Yaad – Bhupinder Singh

Singer : Bhupinder
Lyrics : Naqsh Layalpuri
Music : jaydev

phir teri yaad naye deep jalane aayee
meri duniya se andheron ko mitane aayee

naa koi dard naa ab dard kaa ahesaas raha
yu luta hoon mai ke kuchh bhi mere paas raha
meri barbadi pe ye ashq bahane aayee
phir teri yaad naye deep jalane aayee

in buji aakhon ke har khvaab ki tabir gayee
jal utha mai jo mere pyar ki taherir jali
mere daman me lagi aag bujane aayee
phir teri yaad naye deep jalane aayee

aayee teri yaaad….

sog me dubi hui lagti hai khanmosh fizaa
itna tanha na kisi shaam kisi raat na tha
meri tanhaai ko sine se lagane aayee
phir teri yaad naye deep jalane aayee

फिर तेरी याद नये दीप जलाने आई – भूपिन्दर

गायक : भूपिन्दर
शायर : नक़्श लायलपुरी

फिर तेरी याद नये दीप जलाने आई
मेरी दुनिया से अंधेरों को मिटाने आई

ना कोई दर्द ना अब दर्द का एहसास रहा
युँ लुटा हूं मैं के कुछ भी मेरे पास रहा
मेरी बरबादी पे ये अश्क़ बहाने आई
फिर तेरी याद नये दीप जलाने आई

इन बुज़ी आँखों के हर ख़्वाब की ताबीर गई
जल उठा मैं जो मेरे प्यार की तहरीर जली
मेरे दामन में लगी आग बुझाने आई
फिर तेरी याद नये दीप जलाने आई

आई तेरी याद.…

सोग में डूबी हुई लगती है खामोश फ़िज़ां
इतना तन्हा ना कीसी शाम किसी रात रहा
मेरी तन्हाई को सीने से लगाने आई
फिर तेरी याद नये दीप जलाने आई

Aaina Mujse Meri Paheli Si Surat Mange – Talat Aziz

Singer : Talat Aziz
Music: Rajesh Roshan

apne meri hone ki nishani mange
aaina mujse meri paheli surat mange

mera fan phir muje bazaar mein le aaya hai
yeh vo jagah ke jahan mero vafa bikate hain
baap bikate hain aur lakhte jigar bikate hain
kookh bikati hain dil bikate hain sar bikate hain
is badalti hui duniya ka khuda koi nahin
saste daamo pe yahan roz khuda bikate hain

har kharidaar ko bazaar mein bikataa paya
hum kya paayenge kisi ne yahaan kya paayaa
mere aheshas mere phool kahin aur chale
bol pujaa meri bachi kahin

आईना मुझ से मेरी पहेली सी सुरत माँगे

गायक : तलत अझीझ
संगीत : राजेश रोशन

आईना मुझसे मेरी पहेली सी सुरत माँगे
मेरे अपने मेरे होने की निशाानी माँगें

मैं भटकता ही रहा दर्द के विरान में
वक्त लिखता रहा चेहरे के हर पल का हिसाब
मेरी शोहरत मेरी दिवानगी की नझर होगी
पी गयी मय की बोतल मेरे गीतोँ की किताब
आज लौटा हूँ तो हँसने की अदा भूल गया
ये शहर भूला मुझे मैँ भी इसे भूल गया

मेरे अपने मेरे होने की निशाानी माँगें
आईना मुझसे मेरी पहेली सी सुरत माँगे

मेरा फन फ़िर मुझे बाझार में ले आया है
ये वह जां है के जहाँ महेरो वफ़ा बिकते हैं
बाप बिकते हैं और लख्ते जिगर बिकते हैं

कूख बीकती है दिल बिकता है सर बिकते हैं
इस बदलती हुई दुनिया का खुदा कोई नही
सस्ते दामो मे हर रोझ खुदा बिकते हैं

मेरे अपने मेरी होने की निशानी मांगे
आईना मुझसे मेरी पहेली सी सुरत माँगे

हर खरीदार को बाझार मे बिकता पाया
हम क्या पाएंगे किसीने यहा क्या पाया
मेरे एहसास मेरे फूल कहीं और चलें
बोल पूजा मेरी बच्ची कहीं और चलें

Follow us on

GazalMehfil on Twitter GazalMehfil on Facebook Subscribe Daily Headlines GazalMehfil RSS Feeds Gazalmehfil On Mobile

Enter your email address:

Adverts

Adverts

Categories

Recent Posts

DISCLAIMER

This site has been created in appreciation of Hindi, Urdu gazals. & we are pleased to share this with all who love to listen them. If any of these gazals cause violation of the copyrights and is brought to my attention, I will remove the concerned gazals from the website promptly.

Tags

Networked Blogs

 

Visitor in the world.