एक ही बात ज़माने की – मोहम्मद रफी

स्वर : मोहम्मद रफी
शायर : सुदर्शन फकीर

एक ही बात ज़माने की किताबों में नहीं
जो ग़म-ए-दोस्त में नशा है शराबों में नहीं

हुस्न की भीख न मांगेंगे न जलवों की कभी
हम फकीरों से मिलो खुल के हिजाबों में नहीं

हर जगह बीते हैं आवारा खयालों की तरह
ये अलग बात है हम आपके ख्वाबों में नहीं

न डूबो सागर-ओ-मीना में ये गम ए ‘फकीर’
के मकाम इनका  दिलों में हैं शराबों में नहीं

1 Comment to “एक ही बात ज़माने की – मोहम्मद रफी”

  • aslam January 1, 2012 at 1:43 am

    very nice gazal

Post comment

Follow us on

GazalMehfil on Twitter GazalMehfil on Facebook Subscribe Daily Headlines GazalMehfil RSS Feeds Gazalmehfil On Mobile

Enter your email address:

Adverts

Adverts

Categories

Recent Posts

DISCLAIMER

This site has been created in appreciation of Hindi, Urdu gazals. & we are pleased to share this with all who love to listen them. If any of these gazals cause violation of the copyrights and is brought to my attention, I will remove the concerned gazals from the website promptly.

Tags

Networked Blogs

 

Visitor in the world.