आओगे जब तुम ओ साजना – उस्ताद राशीद खान

गायक : उस्ताद राशीद खान
शब्द : समीर

आओगे जब तुम ओ साजना
अंगना फूल खिलेंगे
बरसेगा सावन, झूम झूम के
दो दिल ऐसे मिलेंगे

नैना तेरे कजरारे हैं
नैनो पे हम दिल हारे हैं
अंजाने ही तेरे नैनो ने
वादे किये कई सारे हैं

साँसों की लय, मद्धम चलें तोसे कहे
बरसेगा सावन, झूम झूम के
दो दिल ऐसे मिलेंगे

चन्दा को तकूँ रातों में
है ज़िन्दग़ी तेरे हाथों में
पलकों पे झिलमिल तारे हैं
आना भरी बरसातों में

सपनों का जहाँ, होगा खिला खिला
बरसेगा सावन झूम झूम के
दो दिल ऐसे मिलेंगे

Aaoge Jab Tum O Sajna – Ustad Rashid Khan

Singer : Ustad Rashid Khan
Lyrics : Sameer

Aaoge jab tum o saajana 
Angana phool khilenge
Barsega saawan, barsega saawan jhoom jhoomke
Do dil aise milenge
Aaoge jab tum o saajana, angana phool khilenge
Naina tere kajraare hai, naino pe hum dil haare hai
Anjaane hi tere naino ne waade kiye kayi saare hai
Saanson ki lay madham chalein, tose gaye
Barasega saawan  jhoom jhoomke, do dil aise milenge
Aaoge jab tum ho saajana, angana phool khilenge
Chanda ko taaku raaton mein, hai zindagi tere haanthon mein
Palkon pe jhilmil taarein hain, aana bhari barsaaton mein
Sapnon ka jahaan, hoga khila khila
Barasega saawan  jhoom jhoomke, do dil aise milenge

तेरी तो चाँद सितारों में बात होती है – मोहम्मद रफी

संगीत : ईकबाल कुरेशी
गज़ल : मुज़फ्फर शाहजहाँनपुर
राग : भैरवी

तेरी तो चाँद सितारों में बात होती है
चमन चमन में बहारों में बात होती है

तेरे शबाब को देखा शराब छूट गई
यही शराब के मारों से बात होती है

सितम वो करते हैं जिस पर बडी तवज्जो से
ये उससे उनके मुकद्दर की बात होती है

मेरे जुनून से वो शोहरत है तेरे जलवों की
जिधर भी जाओ हजारों में बात होती है

Teri To Chand Sitaron – Mohammad Rafi

Music: Iqbal Qureshi
Lyrics: Muzaffar Shahjahanpuri
Raga: Bhairavi

teri to chaand sitaaron mein baat hoti hai
chaman chaman mein bahaaron mein baat hoti hai

tere shabaab ko dekha sharaab chooT gayi
yehi sharaab ke maaron se baat hoti hai

sitam wo karte hain jis par badi tavajjoh se
ye us ke un ke mukaddar ki baat hoti hai

mere junoon se wo shoharat hai tere jalwon ki
jidhar bhi jaao hazaaron mein baat hoti hai

चुमकर मद भरी आंखो से गुलाबी कागज़ – पंकज उधास

स्वर – पंकज उधास
शायर –

चुमकर मद भरी आंखो से गुलाबी कागज़
उसने भेजा है  मेरे नाम  शराबी कागज़

उसके हाथों में गुलाबों की महक है शायद
उसके छूने से हुआ सारा गुलाबी कागज़

Aap Jinke Kareeb Hote Hain – Pankaj Udhas

Singer – Pankaj Udhas
Lyrics –

Aap jin ke kareeb hote hain Wo bade khush naseeb hote hain
Aap jin ke kareeb hote hain

Jab tabiyat kisi pe aati hain Maut ke din karib hote hain
Wo bade khush naseeb hote hain
Aap jin ke kareeb hote hain

zulm seh kar jo uff nahi karte Unke dil bhi ajeeb hote hain
Wo bade khush naseeb hote hain
Aap jin ke kareeb hote hain

Ishq me aur kuchh nahi milta senkdo gum nasib hote hain
Wo bade khush naseeb hote hain
Aap jin ke kareeb hote hain

आप जिनके करीब होते हैं – पंकज उधास

स्वर – पंकज उधास
शायर –

लोग तुमको गुलाब कहेते हैं और जान-ए-शबाब कहेते हैं
आप जैसे हसीन चहेरों को हुम खुदा की किताब कहेते हैं

आप जिनके करीब होते हैं वो बडे खुशनसीब होते हैं

जब तबियत किसी पे आती है मौत के दिन क़रीब होते हैं
वो बडे खुशनसीब होते हैं
आप जिनके करीब होते हैं

झुल्म सहकर जो उफ नहीं करते उनके दिल भी अजीब होते हैं
वो बडे खुशनसीब होते हैं
आप जिनके करीब होते हैं

ईश्क़ में यार कुछ नहीं मिलता सेंकडों ग़म नसीब होते हैं
वो बडे खुशनसीब होते हैं
आप जिनके करीब होते हैं

Mere Liye To Bas Yahi – Mohammad Rafi

Author swati    Category Mohammad Rafi     Tags

Singer : Mohammad Rafi
Lyrics :

Mere liye to bas vahi pal hain hasin bahaar ke
Tum saamane baithi raho main geet gaaun pyaar ke
Main geet gaaun pyaar ke

Main janataa hun pyaar ki pujaa yahaan aparaadh hai
Aparaadh ye har pal karun man me yahi ik saadh hai
Man me yahi ik saadh hai
Mujhako mili hai ye khushi jivan ki baazi haar ke
Tum samane baithi raho main geet gaaun pyaar ke
Main geet gaaun pyaar ke

Sikha nahin maine kabhi sainyam se man ko baandhana
Hai saadhanaa merii tumhaare ruup kii aaraadhanaa
Roop ki aaradhana
Tum saath do to tod dun saare niyam sansaar ke
Tum samane baithi raho main geet gaaun pyaar ke
Main geet gaaun pyaar ke

मेरे लिये तो बस वही पल हैं – मोहम्मद रफी

स्वर : मोहम्मद रफी
शायर :

मेरे लिये तो बस वही पल हैं हसीं बहार के
तुम सामने बैठी रहो मैं गीत गाऊँ प्यार के
मैं गीत गाऊँ प्यार के

मैं जानता हूँ प्यार की पूजा यहाँ अपराध है
अपराध ये हर पल करूँ मन में यही इक साध है
मन में यही इक साध है
मुझको मिली है ये ख़ुशी जीवन की बाज़ी हार के
तुम सामने बैठी रहो मैं गीत गाऊँ प्यार के
मैं गीत गाऊँ प्यार के

सीखा नहीं मैने कभी संयम से मन को बांधना
है साधना मेरी तुम्हारे रूप की आराधना
रूप की आराधना
तुम साथ दो तो तोड़ दूँ सारे नियम संसार के
तुम सामने बैठी रहो मैं गीत गाऊँ प्यार के
मैं गीत गाऊँ प्यार के

Follow us on

GazalMehfil on Twitter GazalMehfil on Facebook Subscribe Daily Headlines GazalMehfil RSS Feeds Gazalmehfil On Mobile

Enter your email address:

Adverts

Adverts

Categories

Recent Posts

DISCLAIMER

This site has been created in appreciation of Hindi, Urdu gazals. & we are pleased to share this with all who love to listen them. If any of these gazals cause violation of the copyrights and is brought to my attention, I will remove the concerned gazals from the website promptly.

Tags

Networked Blogs

 

Visitor in the world.