प्यार का पहला खत लिखने में – जगजित सिंघ

स्वर –  जगजित सिंघ
शायर –  उपेन्द्र निराला

 

  

प्यार का पहला खत लिखने में वक़्क्त तो लगता है
नये परिंदों को उडने में वक्त तो लगता है

जिस्म की बात नहीं थी उनके दिल तक जाना था
लँबी दूरी तय करने में वक्त तो लगता है

गाँठ अगर लग जाये तो फिर रिश्ते हों या डोरी
लाख करे कोशिश खुलने में वक्त तो लगता है

हमने इलाज-ए-ज़ख्म-ए-दिल तो ढूंढ लिया लेकीन
गहरे ज़ख्मों को भरने में वक्त तो लगता है

2 Comments to “प्यार का पहला खत लिखने में – जगजित सिंघ”

  • Dr P A Mevada February 23, 2011 at 11:01 am

    Friends,
    For the first time I visited this marvelous site of soul touching collections of Gazals and songs, after a friend sent me the link. Enjoyed a lot. Thanks & Congratulations!

  • Devendra Gehlod June 24, 2011 at 6:27 am

    yah ghazal upendra nirala ki nahi HASTIMAL HASTI ki likhi hui hai kripya ise sahi kar de .

Post comment

Follow us on

GazalMehfil on Twitter GazalMehfil on Facebook Subscribe Daily Headlines GazalMehfil RSS Feeds Gazalmehfil On Mobile

Enter your email address:

Adverts

Adverts

Categories

Recent Posts

DISCLAIMER

This site has been created in appreciation of Hindi, Urdu gazals. & we are pleased to share this with all who love to listen them. If any of these gazals cause violation of the copyrights and is brought to my attention, I will remove the concerned gazals from the website promptly.

Tags

Networked Blogs

 

Visitor in the world.