Browsing all articles tagged with GazalMehfil.com

मेरी नाज़नीं तुम मुझे भूल जाना – अहमद हुसैन और मोहम्मद हुसैन

स्वर: अहमद हुसैन और मोहम्मद हुसैन

मेरी नाज़नीं तुम मुझे भूल जाना, मुझे तुमसे मिलने न देगा ज़माना।

कभी हम मिले थे किसी एक शहर में, कभी हम मिले थे गुलों की डगर में।
समझना कि था ख़्वाब कोई सुहाना, मेरी नाज़नीं तुम मुझे भूल जाना।

जुदाई के सदमों को हँस हँस के सहना, मेरे गीत सुनना तो ख़ामोश रहना।
कभी इनको सुन के न आँसू बहाना, मेरी नाज़नीं तुम मुझे भूल जाना।

सुना है किसी की दुल्हन तुम बनोगी, किसी गैर की अंजुमन तुम बनोगी।
कभी राज़-ए-उल्फ़त लबों पर न लाना, मेरी नाज़नीं तुम मुझे भूल जाना।

मेरे लिये तो बस वही पल हैं – मोहम्मद रफी

स्वर : मोहम्मद रफी
शायर :

मेरे लिये तो बस वही पल हैं हसीं बहार के
तुम सामने बैठी रहो मैं गीत गाऊँ प्यार के
मैं गीत गाऊँ प्यार के

मैं जानता हूँ प्यार की पूजा यहाँ अपराध है
अपराध ये हर पल करूँ मन में यही इक साध है
मन में यही इक साध है
मुझको मिली है ये ख़ुशी जीवन की बाज़ी हार के
तुम सामने बैठी रहो मैं गीत गाऊँ प्यार के
मैं गीत गाऊँ प्यार के

सीखा नहीं मैने कभी संयम से मन को बांधना
है साधना मेरी तुम्हारे रूप की आराधना
रूप की आराधना
तुम साथ दो तो तोड़ दूँ सारे नियम संसार के
तुम सामने बैठी रहो मैं गीत गाऊँ प्यार के
मैं गीत गाऊँ प्यार के

मयकदे बंद करें – हरिहरन

स्वर : हरिहरन
शायर :

मयकदे बंद करें लाख झमाने वाले
शहर में कम नहीं आँखों से पिलानेवाले

काश मुजको भी लगा ले कभी सीने से
मेरी तसवीर को सीने से लगानेवाले

हमने यकीन आपके वादे पे भला कैसे करें
आप हरगिझ नहीं हैं वादा निभानेवाले

अपने एबों पे नजर जिनकी नहीं होती है
आईना उनको दिखाते हैं ज़मानेवाले

Maykade Bandh Kare – Hariharan

Singer : Hariharan
Poet :

Maykade bandh kare laakh zamanewale
Shahar me kam nahin aankhon se pilanewale

Kaash mujhako lagaale tu kabhi sine se
Meri tasavir ko sine se laganewale

Hum yaqin aapake vaadepe bhala kaise karen
Aap haragiz nahin vada nibhaanewale

Apane aibon pe nazar jinki nahin hoti hai
Aaina unako dikhate hain zamanewale

शम्मा जलाये रखना – भुपिन्दर & मिताली सिंघ

स्वर : भुपिन्दर & मिताली सिंघ
शायर : सईद राही

शम्मा जलाये रखना जब तक कि मैं ना आउं
खुद को बचाये रखना जा तक कि मैं ना आउं

जिंदा दिलों से दुनिया जिन्दा सदा रही है
महफिल सजाये रखना जब तक कि मैं ना आउं

ये वक़्त-ए-इम्तिहान हैं सब्र-ओ-करार-ओ-दिल का
आँसु छुपाये रखना जब तक कि मैं ना आउं

हम तुम मिलेंगे ऐसे जैसे जुदा नहीं थे
सांसे बचाये रखना जब तक कि मैं ना आउं

shamma Jalaye Rakhna – Bhupinder & Mitali Singh

Singer : Bhupinder & Mitali Singh
Poet : Saeed Rahi

Shamma jalaye rakhna jab tak ke main na aaun
Khud ko bachaye rakhna jab tak ki main na aaun

Zinda dilo se duniya zinda sada rahi hai
Mehfil sajaye rakhna jab tak ke main na aaun

Ye vaqt-e-imtehaan hain sabr-o-karar-o-dil ka
Aansun chupaye rakhna jab tak ke main na aaun

Hum tum milenge aise jaise judaa nahi the
Saanse bachaye rakhna jab tak ke main na aaun

Achchha Tha – Jagjit Singh

Singer : Jagjit Singh
Shayar : Majaz Lakhnavi (Asrar ul Haq)

Hijaab-e-fitna parwar ab utha leti to achha thaa
Khud apne husn ko parda bana leti to achha thaa

Teri neechi nazar khud teri ismat ki muhafiz hai
Tu is nashtar ki tezi aazma leti to achha thaa

Tere maathe ka tika mard kee kismat ka taara hai
Agar tu saaz ye bedari utha leti to achha thaa

Tere maathe pe ye aanchal bahut hi khoob hai lekin
Tu is aanchal se ik parcham bana leti to achha thaa

Agar khilwat me tune sar uthaaya bhi to kya haasil
Bhari mehfil me aa kar sar jhukaa leti to acchha tha

Dil-e-majrooh ko majroohtar karne se kya haasil
Tu aansU ponchhkar ab muskura leti to acchha tha

Ek Najar Dekh Ke Hum – Jagjit Singh

Singer : Jagjit Chitra Singh
Poet :

Ek nazar dekh ke hum jaan gaye
Aap kya cheez hain pehchaan gaye

Fir bhi zinda hoon ajab baat hai ye
Kab se ho leke meri jaan gaye

Tum jo aaye to bhari mehfil mein
Dil gaye haath se eemaan gaye

Jis jagah par na farishte pahunche
Us jagah aaj ke insaan gaye

एक नजर देख के – जगजित – चित्रा सिंघ

स्वर : जगजित चित्रा सिंघ
शायर :

एक नजर देख के हम जान गये
आप क्या चीझ हैं पहचान गये

फिर भे जिंदा हुं अजब बात है ये
कब से हो लेके मेरी जान गये

तुम जो आये तो भरी महफिल में
दिल गये हाथ से इमान गये

जिस जगह पर ना फरिश्ते पहुंचे
उस जगह आज के इन्सान गये

Chiththi Na Koi Sandesh Jane Wo Kaun Sa Des – Jagjit Singh

Singer : Jagjit Singh
Poet : Aanand Bakshi

Chithhi na koi sandesh Jaane woh kaun sa des
Jaha tum chale gaye
Is dil pe lagaa ke thhes jaane woh kaun sa des
Jaha tum chale gaye…

Ek aah bhari hogi hamne na suni hogi
Jaate jaate tumne awaaz to di hogi
Har waqt yehi hai gam, us waqt kahaan the hum
Kahan tum chale gaye

Har cheej pe ashkon se likha hai tumhara naam
Ye raste ghar galiyaan tumhe kar na sake salaam
Hai dil mein reh gayi baat, jaldi se chhuda kar haath
Kahan tum chale gaye

Ab yaadon ke kaante is dil mein chubhate hain
Na dard thhaharta hai na aanson rukte hain
Tumhe dhhundhh raha hai pyaar, hum kaise karein iqraar
Ke haan tum chale gaye

Chithhi na koi sandesh jaane woh kaun sa des
Jaha tum chale gaye jaha tum chale gaye
Is dil pe laga ke thhes jaane woh kaun sa des
Jahan tum chale gaye..

Follow us on

GazalMehfil on Twitter GazalMehfil on Facebook Subscribe Daily Headlines GazalMehfil RSS Feeds Gazalmehfil On Mobile

Enter your email address:

Adverts

Adverts

Categories

Recent Posts

DISCLAIMER

This site has been created in appreciation of Hindi, Urdu gazals. & we are pleased to share this with all who love to listen them. If any of these gazals cause violation of the copyrights and is brought to my attention, I will remove the concerned gazals from the website promptly.

Tags

Networked Blogs

 

Visitor in the world.