Browsing all articles tagged with hariharan

मयकदे बंद करें – हरिहरन

स्वर : हरिहरन
शायर :

मयकदे बंद करें लाख झमाने वाले
शहर में कम नहीं आँखों से पिलानेवाले

काश मुजको भी लगा ले कभी सीने से
मेरी तसवीर को सीने से लगानेवाले

हमने यकीन आपके वादे पे भला कैसे करें
आप हरगिझ नहीं हैं वादा निभानेवाले

अपने एबों पे नजर जिनकी नहीं होती है
आईना उनको दिखाते हैं ज़मानेवाले

Maykade Bandh Kare – Hariharan

Singer : Hariharan
Poet :

Maykade bandh kare laakh zamanewale
Shahar me kam nahin aankhon se pilanewale

Kaash mujhako lagaale tu kabhi sine se
Meri tasavir ko sine se laganewale

Hum yaqin aapake vaadepe bhala kaise karen
Aap haragiz nahin vada nibhaanewale

Apane aibon pe nazar jinki nahin hoti hai
Aaina unako dikhate hain zamanewale

आज भी है मेरे कदमों के निशाँ – हरिहरन

स्वर : हरिहरन

शायर : मुमताझ राशीद

 

आज भी है मेरे कदमों के निशाँ आवारा
तेरी गलियों में भटकते थे जहाँ आवारा

तुझ से क्या बिछडे तो हो गई अपनी हालत
जैसे हो जाये हवाओँ में धूँआ आवारा

मेरे शेरों की थी पहचान उसी के दम से
उसको खोकर हुए बे-नाम-ओ-निशाँ आवारा

जिसको भी चाहा उसे टूटकर चाहा राशीद
कम मिलेंगे तुम्हें हम जैसे यहाँ आवारा

– मुमताझ राशीद

Aaj Bhi Hai Mere Kadmo Ke Nishan – Hariharan

Singer : Hariharan

Poet : Mumtaz Rashid

Aaj bhi hai mere kadmo ke nishan

Aaj bhi hai mere kadmon ke nishaan awaara
Teri galiyon mein bhatakte the jahaan awaara

Tujhse kya bichde to ye ho gayi apni haalat
Jaise ho jaaye hawaaon mein dhuaan awaara

Mere sheron ki thi pehchaan usi ke dam se
Usko kho kar hue be-naam-o-nishaan awaara

Jisko bhi chaaha use toot ke chaaha rashid
Kam milenge tumhe ham jaise yahaan awaara

– Mumtaz Rashid

अब के हम बिछडे तो – मेहदी हसन

स्वर – मेहदी हसन

शायर – अहमद फराज़

अब के हम बिछडे तो शायद कभी ख्वाबों में मिले
जिस तरह सूखे हुए फूल किताबों मे मिले

ढूँढ उजडे हुए लोगों में वफा के मोती
ये खज़ाने तुझे मुमकिन है खराबों में मिले

तु खुदा है ना मेरा इश्क़ फरिश्तोँ जैसा
दोनों इन्सान है तो क्युं इतने हिजाबोँ में मिले

गम-ए-दुनिया भी गम-ए-यार में शामिल कर दो
नशा भरता है शराबी जो शराबों मे मिले

अब ना वो मैं हूं ना तु है ना वो माझी है फराझ
जैसे दो साये तमन्ना के शराबों मैं मिले

दरो दिवार पे शकलें – हरिहरन

स्वर – हरिहरन
शायर –

 दरो दिवार पे शकलें सी बनाने आई
फिर ये बारिश मेरी तनहाईं चुराने आई

मैने जब पहेले पहल अपना वतन छोडा था
दूर तक मुझको एक आवाझ बुलाने आई

फिर ये बारीश….

आज कल फिर दिल-ए-बरबाद की बातें हैं वही 
हम तो समज़े थे कि कुछ अक्ल ठिकाने आई

फिर ये बारीश…

दिल में आहट सी हुई रुह में दस्तक गूंजी
किसकी खुशबु ये मुजे मेरे सिरहाने आई 

फिर ये बारीश…

Dar-o-Deewar Pe Shaklen – Hariharan

Singer – Hariharan

Poet –                  

Dar-o-diwar pe shaklen bana ne aaee
Fir ye barish  meri  tanhai  churane  aaee  

Maine jab pahle pahal apana  vatan chhoda tha
Dur tak mujko ek aavaz  bulane aaee

Fir ye barish…

Aaj kala fir dil-e-barbaad ki baten hai vahi
Ham to samje the ki kuchha akl thikane aaee

Fir ye barish…

Dil me aahat si hui ruh me dastak gunji
Kiski khushbu ye muje mere sirhane aaee

Follow us on

GazalMehfil on Twitter GazalMehfil on Facebook Subscribe Daily Headlines GazalMehfil RSS Feeds Gazalmehfil On Mobile

Enter your email address:

Adverts

Adverts

Categories

Recent Posts

DISCLAIMER

This site has been created in appreciation of Hindi, Urdu gazals. & we are pleased to share this with all who love to listen them. If any of these gazals cause violation of the copyrights and is brought to my attention, I will remove the concerned gazals from the website promptly.

Tags

Networked Blogs

 

Visitor in the world.