Browsing all articles tagged with Hindi Gazal Mehfil

Jhuki Jhuki si nazar – Jagjit Singh

Singer – Jagjit Singh

Poet –   Kaifi Azmi

Jhuki Jhuki Si Nazar Beqaraar Hai Ke Nahi
Daba Daba Sa Sahi Dil Mein Pyar Hai Ke Nahi

Tu Apne Dil Ki Jawaan Dhadkano Ko Gin Ke Bata
Meri Tarah Tera Dil Beqarar Hai Ke Nahi

Wo Palken Jis Mein Mohabbat Jawaan Hoti Hai
Us Ek Pal Ka Tujhe Intezaar Hai Ke Nahi

Teri Umeed Pe Thukra Raha Hu Duniya Ko
Tujhe Bhi Apne Pe Ye Aitbaar Hai Ke Nahin

Karoge Yaad To Har Baat – Bhupindar

Singer – Bhupindar

Poet – Bashar Nawaz

Karoge Yaad To Har Baat Yaad Aayegi
Guzarte Waqt Ki Har Mauj Thehar Jayegi

Yeh Chand Beete Zamanon Ka Aaina Hoga
Bhatakti Abra Mein Chehra Koi Bana Hoga
Udaas Raah Koi Dastaan Sunayegi

Barasta Bheegta Mausam Dhuan – Dhuan Hoga
Pighalti Shammon Pe Dil Ka Mere Guma Hoga
Hatheliyon Ki Heena Yaad Kuchh Dilayegi

Gali Ke Modh Pe Soona Sa Koi Darwaaza
Tarasti Aankhon Se Rasta Kisika Dekhega
Nigaah Door Talak Jaake Laut Aayegi

Hum Tere Shahar Me Aaye Hai – Gulam Ali

Singer – ghulam Ali
Poet – Qaiser ul Jafri

hum tere shahar me aaye hai musafir ki tarah
sirf ek bar mulakat ka mauka de de

Meri Manzil Hai Kahan Mera Thikana Hai Kaha
Subah Tak Tujh Se Bichhad kar Mujhe Jaana Hai Kaha
Sochne Ke Liye Ek Raat Ka Mauqa De De

Apani Aankho Mein Chhupa Rakkhe Hai Juganu Maine
Apani Palko Pe Saja Rakkhe Hain Aansu Maine
Meri Aankho Ko Bhi Barsaat Ka Mauqa De De

Aaj Ki Raat Mera Dard-e-Muhabbat Sun Le
Kap Kapate Huae Hotho Ki Shikayat Sun Le
Aaj Izhar-e-Khayalat Ka mauqa De De

Bhulana Tha Toh Ye Iqraar kiyaa hi Kyuu Tha
Bewafa Tune mujhe Pyar Kiya Hi Kyun tha
Sirf Do-Chaar Sawalat Ka Mauqa De De

हम तेरे शहर में आये हैं – गुलाम अली

स्वर – गुलाम अली

शायर – कैसर अल जाफरी

हम तेरे शहर में आये हैं मुसाफिर की तरह
सिर्फ एकबार मुलाकात का मौका दे दे

मेरी मज़िल है कहाँ मेरा ठिकाना है कहाँ
सुबह तक तुज़ से बिछड कर मुझे जाना है कहाँ
सोचने के लिये एक रात का मौका दे दे

अपनी आंखोँ में छुपा रखे हैं जुगनु मैंने
अपनी पलकों पे सजा रखे हैं आंसु मैने
मेरी आंखोँ को भी बरसने का मौका दे दे

आज की रात मेरा दर्द-ए-मुहब्बत सुन ले
कपकपाते हुए होठों के शिकायत सुन ले
आज इझहार-ए-खयालात का मौका दे दे

भुलना था तो ये इकरार किया ही क्युं था
बेवफा तुने मुझे प्यार किया ही क्युं था
सिर्फ दो – चार सवालात का मौका दे दे

Hosh Walon Ko – Jagjit Singh

Singer – Jagjit Singh

Poet –               

Hoshwalon ko khabar kya bekhudi kya chijh hai
ishq kije fir samajiye jindagi kya chijh hai

unse najare kya mil roshan fizaaye ho gai
aaj jana pyar ki jadugari kya chijh hai
ishq kije fir samajiye jindagi kya chijh hai

khulati zulfon ne sikhai mosamo ko shayari
jukati aankhon ne bataya mayakashi kya chijh hai
ishq kije fir samajiye jindagi kya chijh hai

ham labon se kah na paye unase haal-e-dil kabhi
aur wo samjhe nahi yah khamoshi kya chijh hai
ishq kije fir samajiye jindagi kya chijh hai

ful khilte hai baharo ka sama hota hai
aise mausam me hi to pyar javan hota hai
dil ki baaton ko hothon se nahi kahte
ye fasana to aankho se bayaan hota hai

होशवालों को खबर क्या – जगजित सिंघ

 स्वर –  जगजित सिंघ

शायर –                

होशवालों को खबर क्या बेखुदी क्या चीज़ है
ईश्क कीजे फिर समझीये ज़िंदगी क्या चीज़ है

उनसे नज़रें क्या मिली रोशन फिझाएं हो गई
आज जाना प्यार की जादुगरी क्या चीज़ है
ईश्क कीजे फिर समझीये ज़िंदगी क्या चीज़ है

खुलती ज़ुल्फों ने सिखाई मौसमों को शायरी
ज़ुकती आंखों ने बताया मयकशी क्या चीज़ है
ईश्क कीजे फिर समझीये ज़िंदगी क्या चीज़ है

हम लबों से कह न पाये उनसे हाल-ए-दिल कभी
और वो समजे नहीं यह खामोशी क्या चीज़ है
ईश्क कीजे फिर समझीये ज़िंदगी क्या चीज़ है

फूल खिलते हैं बहारों का समां होता है
ऐसे मौसम में ही तो प्यार जवां होता है
दिल की बातों को होठों से नहीं कहते
ये फसाना तो निगाहों से बयाँ होता है

Hangama hai kyon – Ghulam Ali

Singer – Ghulam Ali

Poet – Akbar Ilahabadi

 

mai teri mast nigahi ka asar rakh lunga
hosh aya to bhi kah dunga mujhe hosh nahi

Hungama hai kyu barapaa thodi si jo pi hai
Daka to nahi dala chori to nahi ki hai

us may se nahi matalab dil jis se hai begana
makasud  hai us may se dil hi me jo khinchti hai 

sooraj me lage dhabbaa fitarat ke karishme hai
but hum ko kahe kafir allah ki marzi hai

na tajurba kari se vaaeez ki ye bate hai
is rang ko kya jane puchho to kabhi pi hai

har zarraa chamakta hai anvaar-e-ilahi si
har saans ye kahti hai hum hai to khuda bhi hai

चुपके चुपके रात दिन – गुलाम अली

स्वर – गुलाम अली  

शायर – हसरत मोहानी

चुपके चुपके रात दिन आँसु बहाना याद है
हमको अबतक आशिकी का वो झमाना याद है

तुझ से मिलते ही वो कुछ बेबाक हो जाना मेरा
और तेरा दांतों में युँ उंगली दबाना याद है

खेंच लेना वो मेरा पर्दे का कोना दफ्फतन
और दुपट्टे से तेरा वो मुँह छुपाना याद है

बा हझारा इस्तिराबो सद हझारा इश्तियाक्
तुझसे वो पहले पहल दिल का लगाना याद है

देखना मुझको जो परगश्ता तो सौ सौ नाझ से
जब मना लेना तो फिर वो रुठ जाना याद है

बेरुखी के साथ सुनना दर्दे दिल की दास्ताँ
वो कलाई में तेरा कंगन घुमाना याद है

वक्ते रुखसत अलविदा का लफ्झ कहने के लिये
वो तेरे सूखे लबों का थरथराना याद है

दोपहर की धूप में मेरे बुलाने के लिये
वो तेरा कोठे पे नंगे पांव आना याद है

आ गया गर वस्ल की शब भी कहीं ज़िक्रे फिराक
वो तेरा रो रो के भी मुझको रुलाना याद है

आज जाने की ज़िद ना करो – फरिदा खानम

स्वर – फरिदा खानम

शायर – फयाझ हाशमी

आज जाने की ज़िद ना करो
युं ही पहलु में बैठे रहो
हाये मर जायेंगे हम तो लूट जायेंगे
ऐसी बातें किया ना करो
आज जाने की…..

तुम ही सोचो ज़रा क्युं न रोके तुम्हें
जान जाती है जब उठके जाते हो तुम
तुम को अपनी कसम जान-ए-जाँ
बात इतनी मेरी मान लो
आज जाने की….

वक़्त की क़ैद में ज़िंदगी है मगर
चन्द घडियाँ यही हैं जो आझाद है
इनको खोकर मेरे जान-ए-जाँ
उम्रभर ना तरसते रहो
आज जाने की….

कितना मासुम, रंगीन है ये समाँ
हुस्न और इश्क़ की आज मेराज है
कल की किसको खबर जान-ए-जाँ
रोक लो आज की रात को
आज जाने की….

आपको देखकर देखता रह गया – जगजित सिंघ

स्वर – जगजित सिंघ

शायर –                 

आपको देखकर देखता रह गया
क्या कहुं और कहने को क्या रह गया

आते आते मेरा नाम सा रह गया
उसके होठों पे कुछ काँपता रह गया

वो मेरे सामने ही गया और मैं
रास्ते की तरह देखता रह गया

झुठ वाले कहीं से कहीं बढ गये
और मैं था की सच बोलता रह गया

उसके होठों पे कुछ काँपता रह गया
आते आते मेरा नाम सा रह गया

Follow us on

GazalMehfil on Twitter GazalMehfil on Facebook Subscribe Daily Headlines GazalMehfil RSS Feeds Gazalmehfil On Mobile

Enter your email address:

Adverts

Adverts

Categories

Recent Posts

DISCLAIMER

This site has been created in appreciation of Hindi, Urdu gazals. & we are pleased to share this with all who love to listen them. If any of these gazals cause violation of the copyrights and is brought to my attention, I will remove the concerned gazals from the website promptly.

Tags

Networked Blogs

 

Visitor in the world.