Browsing all articles tagged with hindi

Meri Naznin Tum Muje Bhul Jana

Singer : Ahmed Husain & Mohammad Husain
Lyrics :

Meri Nazanin tum muje bhul jana,
Mujhe tum se milne na dega jamanaa

Kabhi hum mile the kisi ek shahar me,
Kabhi hum mile the gulon ki Dagar me
Samajanaa ki thaa khvaab koi suhaana
Meri Nazanin tum muje bhul jana,

judai ke sadmon ko hans hans ke sahana,
mere geet sunanaa to khamosh rehna
kabhi inko sun ke na aansu bahana
Meri Nazanin tum muje bhul jana,

sunaa hia kisi ki dulhan tum banogi,
kisi gair ki anjuman tum banogi
kabhi raaz-e-ulfat labon par na lanaa
Meri Nazanin tum muje bhul jana,

Aaj Bichhde Hai Kal Ka Koi Dar – Bhupinder

Singer : Bhupinder
Lyrics : Gulzar
Music : Khayyam

aaj bichhade hain, kal kaa dar bhi nahin
jindagee itanee mukhtasar bhee naheen

jakhm dikhate naheen abhi lekin
thhnde honge to dard nikalegaa
aish utaregaa wakt kaa jab bhee
cheharaa andar se jard nikalegaa

kahanewaalon kaa kuchh nahi jata
sahne wale kamaal karate hain
kaun dhundhe jawaab dardon ke
log to bas sawaal karate hain

kal jo ayega jaane kya hoga
beet jaae jo kal nahin aate
wakt ki shaakh todne walon
tuti shaakhon pe fal nahin aate

kachchi mitti hain, dil bhi insaan bhi
dekhane hi me sakht lagata hain
aansoo ponchhe to aansuon ke nishan
khushk hone me waqt lagta hai

फिर तेरी याद नये दीप जलाने आई – भूपिन्दर

गायक : भूपिन्दर
शायर : नक़्श लायलपुरी

फिर तेरी याद नये दीप जलाने आई
मेरी दुनिया से अंधेरों को मिटाने आई

ना कोई दर्द ना अब दर्द का एहसास रहा
युँ लुटा हूं मैं के कुछ भी मेरे पास रहा
मेरी बरबादी पे ये अश्क़ बहाने आई
फिर तेरी याद नये दीप जलाने आई

इन बुज़ी आँखों के हर ख़्वाब की ताबीर गई
जल उठा मैं जो मेरे प्यार की तहरीर जली
मेरे दामन में लगी आग बुझाने आई
फिर तेरी याद नये दीप जलाने आई

आई तेरी याद.…

सोग में डूबी हुई लगती है खामोश फ़िज़ां
इतना तन्हा ना कीसी शाम किसी रात रहा
मेरी तन्हाई को सीने से लगाने आई
फिर तेरी याद नये दीप जलाने आई

चुमकर मद भरी आंखो से गुलाबी कागज़ – पंकज उधास

स्वर – पंकज उधास
शायर –

चुमकर मद भरी आंखो से गुलाबी कागज़
उसने भेजा है  मेरे नाम  शराबी कागज़

उसके हाथों में गुलाबों की महक है शायद
उसके छूने से हुआ सारा गुलाबी कागज़

Aap Jinke Kareeb Hote Hain – Pankaj Udhas

Singer – Pankaj Udhas
Lyrics –

Aap jin ke kareeb hote hain Wo bade khush naseeb hote hain
Aap jin ke kareeb hote hain

Jab tabiyat kisi pe aati hain Maut ke din karib hote hain
Wo bade khush naseeb hote hain
Aap jin ke kareeb hote hain

zulm seh kar jo uff nahi karte Unke dil bhi ajeeb hote hain
Wo bade khush naseeb hote hain
Aap jin ke kareeb hote hain

Ishq me aur kuchh nahi milta senkdo gum nasib hote hain
Wo bade khush naseeb hote hain
Aap jin ke kareeb hote hain

आप जिनके करीब होते हैं – पंकज उधास

स्वर – पंकज उधास
शायर –

लोग तुमको गुलाब कहेते हैं और जान-ए-शबाब कहेते हैं
आप जैसे हसीन चहेरों को हुम खुदा की किताब कहेते हैं

आप जिनके करीब होते हैं वो बडे खुशनसीब होते हैं

जब तबियत किसी पे आती है मौत के दिन क़रीब होते हैं
वो बडे खुशनसीब होते हैं
आप जिनके करीब होते हैं

झुल्म सहकर जो उफ नहीं करते उनके दिल भी अजीब होते हैं
वो बडे खुशनसीब होते हैं
आप जिनके करीब होते हैं

ईश्क़ में यार कुछ नहीं मिलता सेंकडों ग़म नसीब होते हैं
वो बडे खुशनसीब होते हैं
आप जिनके करीब होते हैं

मेरे लिये तो बस वही पल हैं – मोहम्मद रफी

स्वर : मोहम्मद रफी
शायर :

मेरे लिये तो बस वही पल हैं हसीं बहार के
तुम सामने बैठी रहो मैं गीत गाऊँ प्यार के
मैं गीत गाऊँ प्यार के

मैं जानता हूँ प्यार की पूजा यहाँ अपराध है
अपराध ये हर पल करूँ मन में यही इक साध है
मन में यही इक साध है
मुझको मिली है ये ख़ुशी जीवन की बाज़ी हार के
तुम सामने बैठी रहो मैं गीत गाऊँ प्यार के
मैं गीत गाऊँ प्यार के

सीखा नहीं मैने कभी संयम से मन को बांधना
है साधना मेरी तुम्हारे रूप की आराधना
रूप की आराधना
तुम साथ दो तो तोड़ दूँ सारे नियम संसार के
तुम सामने बैठी रहो मैं गीत गाऊँ प्यार के
मैं गीत गाऊँ प्यार के

मयकदे बंद करें – हरिहरन

स्वर : हरिहरन
शायर :

मयकदे बंद करें लाख झमाने वाले
शहर में कम नहीं आँखों से पिलानेवाले

काश मुजको भी लगा ले कभी सीने से
मेरी तसवीर को सीने से लगानेवाले

हमने यकीन आपके वादे पे भला कैसे करें
आप हरगिझ नहीं हैं वादा निभानेवाले

अपने एबों पे नजर जिनकी नहीं होती है
आईना उनको दिखाते हैं ज़मानेवाले

Maykade Bandh Kare – Hariharan

Singer : Hariharan
Poet :

Maykade bandh kare laakh zamanewale
Shahar me kam nahin aankhon se pilanewale

Kaash mujhako lagaale tu kabhi sine se
Meri tasavir ko sine se laganewale

Hum yaqin aapake vaadepe bhala kaise karen
Aap haragiz nahin vada nibhaanewale

Apane aibon pe nazar jinki nahin hoti hai
Aaina unako dikhate hain zamanewale

Follow us on

GazalMehfil on Twitter GazalMehfil on Facebook Subscribe Daily Headlines GazalMehfil RSS Feeds Gazalmehfil On Mobile

Enter your email address:

Adverts

Adverts

Categories

Recent Posts

DISCLAIMER

This site has been created in appreciation of Hindi, Urdu gazals. & we are pleased to share this with all who love to listen them. If any of these gazals cause violation of the copyrights and is brought to my attention, I will remove the concerned gazals from the website promptly.

Tags

Networked Blogs

 

Visitor in the world.