Browsing all articles tagged with jienka raaz

जीने का राझ मैंने – मोहम्मद रफी

स्वर  :  मोहम्मद रफी
शायर  :  मुझफ्फर शाहजहाँनपुर 

जीने का राझ मैंने मुहब्बत में पा लिया
जिसका भी गम हुआ उसे अपना बना लिया

तुम गम का बोज रोके भी हलका न कर सके
मैंने हँसी की आड में हर गम छुपा लिया

सुनने को जब न कोई मिला दास्तान-ए-गम
आईना रख के सामने खुद को सुना लिया

Follow us on

GazalMehfil on Twitter GazalMehfil on Facebook Subscribe Daily Headlines GazalMehfil RSS Feeds Gazalmehfil On Mobile

Enter your email address:

Adverts

Adverts

Categories

Recent Posts

DISCLAIMER

This site has been created in appreciation of Hindi, Urdu gazals. & we are pleased to share this with all who love to listen them. If any of these gazals cause violation of the copyrights and is brought to my attention, I will remove the concerned gazals from the website promptly.

Tags

Networked Blogs

 

Visitor in the world.