Browsing all articles tagged with yaaden

अब के हम बिछडे तो – मेहदी हसन

स्वर – मेहदी हसन

शायर – अहमद फराज़

अब के हम बिछडे तो शायद कभी ख्वाबों में मिले
जिस तरह सूखे हुए फूल किताबों मे मिले

ढूँढ उजडे हुए लोगों में वफा के मोती
ये खज़ाने तुझे मुमकिन है खराबों में मिले

तु खुदा है ना मेरा इश्क़ फरिश्तोँ जैसा
दोनों इन्सान है तो क्युं इतने हिजाबोँ में मिले

गम-ए-दुनिया भी गम-ए-यार में शामिल कर दो
नशा भरता है शराबी जो शराबों मे मिले

अब ना वो मैं हूं ना तु है ना वो माझी है फराझ
जैसे दो साये तमन्ना के शराबों मैं मिले

Ab Ke Hum Bichhade – Mehdi Hasan

Singer – Mehdi Hasan

Poet – Ahmad Faraz

 

Ab ke hum bichde to shayad kabhi khwabon main mile
Jis tarha  sukhe hue phool  kitabon main mile…
Ab ke hum bichhde to shayad

Dhundhe  ujde hue logo main wafa  ke  moti
Ye khazane tujhe mumkin hai kharabon main mile
Jis Tarah  sukhe hue phool kitabon main mile

Tu khuda hai na mera ishq farishton jaisa
Dono insaan hain to kyun itne hijabon main mile
Jis tarah sukhe hue phool kitabon main mile

Ghum-e-duniya bhi ghum-e-yaar main shamil kar do
Nasha badhta hai sharabe jo sharabo main mile
Jis tarah sukhe hue phool kitabon main mile

Ab na woh main hoon na tu hai na woh mazi hai faraz
Jaise  do saye tamana k sarabon main mile
Jis tarah sukhe hue phool kitabon main

Ab ke hum bichhade to shayad

दरो दिवार पे शकलें – हरिहरन

स्वर – हरिहरन
शायर –

 दरो दिवार पे शकलें सी बनाने आई
फिर ये बारिश मेरी तनहाईं चुराने आई

मैने जब पहेले पहल अपना वतन छोडा था
दूर तक मुझको एक आवाझ बुलाने आई

फिर ये बारीश….

आज कल फिर दिल-ए-बरबाद की बातें हैं वही 
हम तो समज़े थे कि कुछ अक्ल ठिकाने आई

फिर ये बारीश…

दिल में आहट सी हुई रुह में दस्तक गूंजी
किसकी खुशबु ये मुजे मेरे सिरहाने आई 

फिर ये बारीश…

Dar-o-Deewar Pe Shaklen – Hariharan

Singer – Hariharan

Poet –                  

Dar-o-diwar pe shaklen bana ne aaee
Fir ye barish  meri  tanhai  churane  aaee  

Maine jab pahle pahal apana  vatan chhoda tha
Dur tak mujko ek aavaz  bulane aaee

Fir ye barish…

Aaj kala fir dil-e-barbaad ki baten hai vahi
Ham to samje the ki kuchha akl thikane aaee

Fir ye barish…

Dil me aahat si hui ruh me dastak gunji
Kiski khushbu ye muje mere sirhane aaee

Hamari Saanson Me Aajtak – Noorjahan

Hamari saanson mein aaj tak woh heena ki khushbhoo mehak rahi hai
Labo pe nagme machal rahe hai,  nazar se masti chhalak rahi hai

Woh mere nazdik aate aate hayaa se ek din simat gaye the
Mere khayalo  mein aaj tak woh badan ki daali lachak rahi hai

Sadaa jo dil se nikal rahi hai, vo sheron, nagmo me dhal rahi hai
Ke dil ke aangan me jaise koi gazal ki jhanjhar chhanak rahi hai

Tadap mere bekaraar dil ki kabhi to un pe asar karegi
Kabhi to bhee jalenge isme jo aag dil me dahek rahi hai

हमारी सांसो में आजतक वो हिना की – नूरजहाँ

हमारी सांसो में आजतक वो हिना की खुश्बु महक रही है
लबों पे नगमें मचल रहे हैं नज़र से मस्ती छलक रही है

वो मेरे नझदीक आते आते हया से एकदिन सिमट गये थे
मेरे खयालों में आजतक वो बदन की डाली लचक रही है 

सदा जो दिल से निकल रही है वो शेरों नगमों में ढल रही है
के दिल के आंगन में जैसे कोई गज़ल की झांझर छनक रही है

तडप मेरे बेकरार दिल की कभी तो उन पे असर करेगी
कभी तो वो भी जलेंगे इसमें जो आग दिल में दहेक रही है

हमारी सांसो में आजतक वो हिना की खुश्बु महक रही है
लबों पे नगमें मचल रहे हैं नज़र से मस्ती छलक रही है

Follow us on

GazalMehfil on Twitter GazalMehfil on Facebook Subscribe Daily Headlines GazalMehfil RSS Feeds Gazalmehfil On Mobile

Enter your email address:

Adverts

Adverts

Categories

Recent Posts

DISCLAIMER

This site has been created in appreciation of Hindi, Urdu gazals. & we are pleased to share this with all who love to listen them. If any of these gazals cause violation of the copyrights and is brought to my attention, I will remove the concerned gazals from the website promptly.

Tags

Networked Blogs

 

Visitor in the world.